www.swarnbhoomi.com

राममंदिर-कभी कहते हैं राजनैतिक मुद्दा नही, अब कहते हैं पहले मोदी सरकार पर विश्वास करो


मैंने भाजपा नेताओं को अधिकतर यही कहते देखा है कि श्रीरामजन्मभूमि मंदिर राजनैतिक मुद्दा नहीं, आस्था का मुद्दा है। समाचार चैनलों पर चर्चाओं में भाजपा प्रवक्ता यही बोलते दिखाई देते हैं। प्रश्न ये उठता है कि कदाचित ये राजनैतिक मुद्दा नहीं है तो भाजपा हर चुनाव में इसे अपने राजनैतिक चुनावी मेनिफेस्टो में क्यों डालती है? वैसे ये मुद्दा भाजपा के मैनिफेस्टो से धीरे धीरे आरम्भ के पृष्ठों से अंतिम पृष्ठों में जाता रहा है।
प्रयागराज अर्धकुम्भ 2019 में विहिप की तथाकथित धर्मसंसद में दूसरे दिन आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत जी ने ये बोल दिया है कि अब श्रीरामजन्मभूमि मंदिर के लिये 6 महीने रुकें। जब भाजपा का ये मानना है कि ये मुद्दा राजनैतिक नहीं है तो मोहन भागवत जी मंदिर मुद्दे को 2019 के चुनावों के बाद टालकर स्वयं ही राजनैतिक बना रहे हैं। ये तो यही बात हो गई कि दोनों ने मुद्दे को 1 दूसरे पर डाल दिया और हिंदुओं को लटका दिया।
सबसे बड़ी बात ये है कि आरएसएस के ही नंबर 2 नेता भैया जी जोशी कुछ दिन पहले अर्धकुम्भ में ही खुलासा कर चुके हैं कि "लगता है कि केंद्र में दोबारा सरकार बनने पर भी मोदी सरकार राम मंदिर निर्माण को लेकर कोई पहल नहीं करेगी।
स्त्रोत https://hindi.timesnownews.com/amp/india/article/rss-senier-leader-bhaiya-ji-joshi-tells-ram-mandir-in-ayodhya-will-be-built-in-2025/349774

Comments